lucknow book fair प्रारम्भ, सही ज्ञान प्राप्त करने के लिए पुस्तकें ही प्रामाणिक: डा.दिनेश शर्मा

मेले में पहले दिन ही किताबों के स्टालों पर उमड़ी युवाओं की भीड़

लखनऊ। यूपी के डिप्टी सीएम डा.दिनेश शर्मा ने कहा है कि ज्ञान प्राप्त करने के लिए किताबें ही प्रामाणिक माध्यम हैं। आनलाइन सिस्टम में हम काफी आगे बढ़ चुके हैं। लेकिन पुस्तकें नहीं लिखी जाएंगी तो इंटरनेट के लिए सामग्री कहां से आएगी! इसलिए लेखन, प्रकाशन और पाठक आवश्यक हैं। डिप्टी सीएम राजधानी चारबाग स्थित बाल संग्रहालय लॉन में लखनऊ पुस्तक मेला का उद्घाटन कर रहे थे। आत्मनिर्भर भारत थीम पर केन्द्रित यह पुस्तक मेला 14 मार्च तक चलेगा।

डा.दिनेश शर्मा ने कहा कि मेरे लिए पुस्तक मेले का एक अलग आकर्षण रहा है। मैं 2006 से इस पुस्तक मेले में आ रहा हूं। यहां उमड़ने वाले भीड़ हमेशा संतोष के साथ गर्व का अनुभव कराती है कि हमारे नगर में बुद्धिजीवी वर्ग है। उन्होंने कहा कि इंटरनेट संचालित माध्यमों के वर्तमान दौर में जानकारी बहुत जल्द मिल जाती है। कोरोना काल में हमने आनलाइन शिक्षा को क़रीब से देखा और कण्टेंट अपलोड कराया है।

मेले की थीम आत्मनिर्भर भारत की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे पुस्तक मेलों में आकर पता चलता है कि वास्तव दुनिया में कितना विस्तृत ज्ञान है। पुस्तकों की महत्ता कभी नहीं खत्म होने वाली है। इस अवसर पर उन्होंने एक पत्रिका ‘सिटी एसेन्स’ का विमोचन भी किया।

उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता कर रहे पूर्व मेयर डा.दाऊजी गुप्ता ने पुस्तकों के महत्व पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि इंटरनेट पर हरदम सही जानकारी नहीं मिलती। इससे आज मोबाइल फोन में संसार सिमट आया है। भारतीय भाषाओं की महत्ता बताते हुए उन्होंने कहा कि आक्सफोर्ड डिक्शनरी के 40 लाख शब्दों में पांच लाख शब्द संस्कृत के हैं।

इससे पूर्व अतिथियों का स्वागत करते हुए संयोजक मनोज सिंह चंदेल ने नवाबी शहर में लगभग दो दशक पुरानी पुस्तक मेलों की परम्परा का जिक्र क्रमशः होते बदलाव के साथ किया और कहा कि हमारे लिए मीडिया का सहयोग हमेशा अहम रहा है। अफसोस यह है कि पिछले साल कोविड-19 के दुरूह काल के कारण तय होने के बावजूद कोई भी मेला नहीं हो पाया पर प्रसन्नता की बात है अब नियमों में ढील होने के कारण यह मेला आयोजित हुआ है।

इस मौके पर संरक्षक वरिष्ठ अधिवक्ता बाबू रामजी दास, प्रदेश ओलम्पिक संघ के उपाध्यक्ष टीपी हवेलिया आप्टीकुम्भ के मिशन लीडर ऋषभ रस्तोगी, विश्वम के यूपी त्रिपाठी व विशाल श्रीवास्तवव निदेशक आकर्ष चंदेल ने भी अपने विचार रखे। दीप प्रज्ज्वलन के साथ ही युगल कथक नृत्यांगना ईशा रतन-मीशा रतन ने ईश वंदना प्रस्तुत की।

पुस्तक मेले में ओसवाल पब्लिशर्स, सुल्तान चंद, प्रकाशन संस्थान, राजकमल, लोकभारती, नेशनल बुक ट्रस्ट, वाणी प्रकाशन, केंद्रीय हिंदी निदेशालय, प्रकाशन विभाग, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, सिंधी भाषा राष्ट्रीय परिषद, उर्दू भाषा राष्ट्रीय परिषद, चॉल्टन बुक ट्रस्ट, श्रीरामकृष्ण मिशन, तर्कसंगत विचार कैफे आदि अनेक प्रकाशनों के साहित्यिक, शैक्षिक, प्रतियोगी परीक्षाओं के संग विविध विषयों की किताबों के लगभग सौ स्टाल हैं। मेले को आकाशवाणी, लखनऊ स्मार्ट सिटी, मिशन गंगा, लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट, नगर निगम का सहयोग भी प्राप्त हो रहा है।

मेले में पहले दिन ही किताबों के स्टालों पर युवाओं की भीड़ उमड़ी। मेले के सांस्कृतिक मंच पर युवाओं के लिए उनके लिए उपयोगी विविध साहित्य के साथ ही विविध गतिविधियों को इंटर-कॉलेज प्रतियोगिता, ओपन माइक सत्र, प्रदर्शनी टॉक शो इत्यादि का आयोजन भी किया जा रहा है। बीती शाम मंच पर शशि चक्रवर्ती के सांस्कृतिक दल का कार्यक्रम हुआ। पुस्तक मेले में स्थानीय लेखकों की पुस्तक प्रदर्शन व बिक्री के लिए अलग स्टाल रखा गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button