Panchayat Election: अतिसंवेदनशील पिपरगवां पर दोबारा होगा मतदान, मतपेटियों में डाला गया था पानी

मतदान में व्यवधान हुआ था और हमने मांग की थी कि दोबारा मतदान कराया जाये। हमारी मांग को निर्वाचन आयोग ने माना और आज अतिसंवेदनशील बूथ 186 पर दोबारा मतदान हो रहा है।

कानपुर।। बिधनू विकास खण्ड के अतिसंवेदनशील पिपरगवां मतदान केन्द्र पर निर्धारित समय पर मतदान नहीं हो पाया था। आराजकतत्वों ने मतपेटियों पर पानी डाल दिया था और पीठासीन अधिकारी पर एक उम्मीदवार के पक्ष में मतदान कराने का आरोप लगाया था। निर्वाचन आयोग ने एक सप्ताह बाद दोबारा मतदान कराने का फैसला लिया और बुधवार को मतदान प्रक्रिया शुरु हुई। मतदान को लेकर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये हैं और समाचार लिखने तक शांतिपूर्ण मतदान प्रक्रिया चल रही है।

उत्तर प्रदेश में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तहत 15 अप्रैल को जनपद में पहले चरण का मतदान हुआ था। मतदान को लेकर कई जगहों पर गड़बड़ियों की शिकायतें मिली थी पर मतदान प्रक्रिया नहीं रोकी गई थी, लेकिन बिधनू विकास खण्ड के पिपरगवां में मतदान प्रक्रिया को रोकना पड़ा था। इसी के चलते एक सप्ताह बाद बुधवार को यहां पर दोबारा मतदान प्रक्रिया निर्वाचन विभाग द्वारा कराई जा रही है।

पिपरगवां के तीनों बूथ रहे संवेदशील–

पिपरगवां ग्राम पंचायत में तीन मतदान केन्द्र बनाये गये थे। इनमें दो अतिसंवेदनशील और एक संवेदनशील रहे। अतिसंवेदनशील मतदान स्थल जूनियर हाईस्कूल पिपरगवां के बूथ नंबर 186 पर 15 अप्रैल को मतदान शांतिपूर्वक चल रहा था, लेकिन दोपहर बाद ग्रामीणों के बीच यह अफवाह उड़ गई कि पीठासीन अधिकारी इमरान आलम अंसारी कार चुनाव चिन्ह पर मुहर लगाकर मतदाताओं को मतपत्र दे रहे हैं।

इस पर शशि और ऊषा के समर्थक विनोद कुमार शुक्ला और संतोष सिंह भदौरिया ने बड़ी संख्या में लोगों के साथ बूथ नंबर 186 पर आ धमके। ग्रामीणों ने पीठासीन अधिकारी और मतदान कर्मी मुरारी सिंह, रामनयन कश्यप व देवेंद्र सिंह भदौरिया को जमकर पीटा। बवाल की सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह से ग्रामीणों को समझाया और पीठासीन अधिकारी इमरान आलम अंसारी से मतदान कराने को कहा गया था, पर ग्रामीणों ने अधिकारियों की एक भी न सुनी।

दोबारा मतदान कराने की उठी थी मांग–

निवर्तमान ग्राम प्रधान राजकुमार सिंह ने बताया कि 15 अप्रैल को गलत तरीके से आपत्ति की जा रही थी। मतदान में व्यवधान हुआ था और हमने मांग की थी कि दोबारा मतदान कराया जाये। हमारी मांग को निर्वाचन आयोग ने माना और आज अतिसंवेदनशील बूथ 186 पर दोबारा मतदान हो रहा है।

बताया कि इस बूथ पर 750 मतदाता मतदान कर रहे हैं। बताया कि आराजकतत्वों ने मतपेटियों पर पानी डाल दिया था जिससे मतदान की पारदर्शिता में व्यवधान हुआ था और मतपेटियों को सील करा दिया गया था। ऐसे में अब दोबारा मतदान होने से लोकतांत्रिक रुप से उम्मीदवार विजयी होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button