Online fraud of Rs 37 lakh : पॉलिसी व निवेश के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, आरोपित को उत्तर प्रदेश से पकड़ लाई देहरादून एसटीएफ

img

देहरादून। कर्मचारी फर्जी और काम भी फर्जी। ऐसे फर्जी कर्मचारी को देहरादून एसटीएफ व साइबर पुलिस टीम ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के बहराइच जनपद से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। गिरफ्तार आरोपित ने पॉलिसी व निवेश के नाम पर लगभग 37 लाख रुपये ऑनलाइन धोखाधड़ी की है।

दरअसल, साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन पर शिकायत मिली थी कि देहरादून निवासी शिकायतकर्ता के साथ अज्ञात व्यक्ति ने स्वयं को एसबीआई स्मार्ट वेल्थ बिल्डर पॉलिसी का कर्मचारी बताकर पहले पालिसी खुलवाया, फिर उसे गलत बताकर ठीक कराने के नाम पर व पालिसी की यूनिट वैल्यू पर अनेक लाभ का लालच देकर अलग-अलग तिथियों में विभिन्न खातों में कुल 36,99,084.36 (छत्तीस लाख निन्यानबे हजार चौरासी रुपये व छत्तीस पैसे) जमा कराकर धोखाधड़ी कर ली। शिकायत के आधार पर साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन देहरादून पर अज्ञात के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर विवेचना साइबर थाने के अपर उप निरीक्षक सुनील भट्ट के सुपुर्द की गई।

दो सिम कार्ड मय मोबाइल, आधार, पैन व एटीएम कार्ड बरामद
कार्रवाई के लिए गठित टीम ने तकनीकी विश्लेषण से प्रकाश में आए आरोपित महेश कुमार वर्मा (25) पुत्र शिवकुमार निवासी भूपगंज बाजार रुकनपुर थाना पयागपुर जनपद बहराइच उत्तर प्रदेश को बहराइच से गिरफ्तार किया। साथ ही दो सिम कार्ड मय मोबाइल, आधार, पैन व एटीएम कार्ड बरामद किया।

पुलिस ने किया अलर्ट, साइबर अपराध से बचें, तत्काल दें सूचना
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ उत्तराखंड आयुष अग्रवाल ने जनता से अपील की है कि ऑनलाइन जॉब के लिए किसी भी फर्जी वेबसाइट, मोबाइल नंबर, लिंक आदि का प्रयोग ना करें। किसी भी प्रकार के ऑनलाइन जॉब के लिए आवेदन करने से पूर्व उक्त साइट का पूर्ण वेरीफिकेशन स्थानीय बैंक, संबंधित कंपनी आदि से अवश्य करा लें। गूगल से किसी भी कस्टमर केयर का नंबर सर्च न करें। शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन को शिकायत करें। साइबर अपराध की घटित होने पर तत्काल 1930 पर कॉल कर संपर्क करें।
 

Related News